जब दरोगा ने कहा- 40 हजार नहीं दिये तो तुम्हारी माँ को…

0
701
लाल घेरे में फोन पर बात करता दरोगा गुरदास गौतम

राया। (प्रदीप अग्रवाल) एस एस पी की सख्ती के बाद भी पुलिस अपनी हरकतों से बाज नही आ रही हैं राया थाने के एक दरोगा ने एक मामूली विवाद मैं एक महिला का  नाम निकालने के लिए उसके बड़े बेटे से 40000 रुपए की मांग कर डाली और यहां तक धमकी दे डाली कि लेन-देन की बात किसी तीसरे को मालूम हुई तो वह उसे छोड़ेगा नहीं. मिली जानकारी के अनुसार ग्राम होल्ला निवासी शीला देवी पत्नी रामवीर का जमीनी बंटवारे को लेकर अपने देवर बच्चू पुत्र सुमेरी से झगड़ा हो गया इस मामले में बच्चू  ने अपनी पत्नी को लेजाकर थाने मैं मारपीट की प्राथमिकी  भाभी के खिलाफ दर्ज करा दी व  जिला बुलंदशहर के रहने वाले बादशाह के खिलाफ भी थाने में प्राथमिकी दर्ज करा दी जो कि पहले बच्चू  के यहाँ रहता था फिर किसी बात पर झगड़ा होने पर उसे निकाल दिया तो वो उसकी भाभी शिला के यहाँ रहने लगा  जिस की विवेचना में थाने में तैनात उपनिरीक्षक गुरदास गौतम को सौंपी गई उपनिरीक्षक गौतम ने शीला के बेटे पर दबाव बनाया तो हरेंद्र ने पुलिस टीम के साथ जा कर आरोपी बादशाह को गिरफ्तार करा दिया जो जेल में है बताया गया है कि इसके बाद उपनिरीक्षक गुरदास गौतम ने हरेंद्र पर प्राथमिकी से उसकी मां का नाम निकालने के नाम पर 40000 रुपए की मांग की और लगातार दबाव बनाने लगा जिसकी दरोगा से मोबाइल पर हुई बातचीत में दरोगा गौतम ने स्पष्ट कहा है कि जो तय हुआ है उस से कम नही होगा फिर कहा के फोन पर बात नही करते आकर मिलो तो हरेन्द्र ने कहा मैं अपने जीजा के यहाँ हूँ बड़ी मुश्किल से 15000 की व्यवस्था हुई हैं तो कहा आकर मिल फिर उस के जीजा से बात की तो बोला पैसे की बात फोन पर नही होती ना पैसा मांग हैं जब जीजा ने विनती की तो बोला ठीक भेज दो लेन-देन की बात किसी तीसरे को मालूम हुई तो वह उसको जीने नहीं देगा दरोगा की धमकी से भयभीत मां-बेटे छुपे छुपे घूम रहे हैं. थाना राया आये दिन दरोगाओं की दंबगई देखने को मिलती हैं अभी कुछ दिन पूर्व भी दो गाँव इसी दरोगा की वजह से आमने सामने आ गए थे वो तो समय रहते प्रभारी निरीक्षक व एस एस आई रविन्द्र कुमार की सूझ बुझ से मामला बिगड़ने से बच गया।
सुनिये  राया मैं तैनात उप निरीक्षक गुरदास गौतम की ऑडियो रिकॉडिंग